इतिहास

अलाउद्दीन खिलजी का इतिहास | Alauddin Khilji History In Hindi

अलाउद्दीन खिलजी का इतिहास | Alauddin Khilji History In Hindi
Written by Jagdish Pant

Alauddin Khilji – आज हम आपको अलाउद्दीन खिलजी के बारे में बताने वाले है वह भारत के महान शासकों में से एक थे  वे खिलजी साम्राज्य के दुसरे शासक थे  अलाउद्दीन खिलजी खिलजी साम्राज्य के सबसे बड़े शासकों में से एक थे आज हम आपको अलाउद्दीन खिलजी का इतिहास | Alauddin Khilji History In Hindi   के बारे अधिक से अधिक जानकरी  देने का प्रयास करेंगे

अलाउद्दीन खिलजी का इतिहास | Alauddin Khilji History In Hindi

इन्हें भी पढ़े- Republic day History in Hindi (गणतंत्र दिवस का इतिहास )

अलाउद्दीन खिलजी का इतिहास | Alauddin Khilji History In Hindi

अलाउद्दीन खिलजी, खिलजी वंश के दुसरे शासक थे  अलाउद्दीन खिलजी बहुत ही शक्तिशाली और महत्वाकांक्षी शासकों में से एक थे अलाउद्दीन ने अपने चाचा जलालुद्दीन फिरुल खिलजी की हत्या करके राजगद्दी हासिल कर ली इसके बाद वह खिलजी वंश का विस्तार करने लगे खिलजी की बड़ती ताकत के साथ ही उनके वफादारों की संख्या भी बड़ती जा रही थी  वह भारत वर्ष में अपना साम्राज्य फैलाते जा रहे थे दक्षित भारत में खिलजी का आतंक बहुत ही अधिक था वहाँ के शासक अलाउद्दीन खिलजी के सामने हार मानने लगें

इन्हें भी पढ़े- राजस्थान का रणथम्भौर नेशनल पार्क

अलाउद्दीन खिलजी का दूसरा नाम जुना मोहम्मद खिलजी था खिलजी का जन्म 1250 AD में हुआ था उनका जन्म लक्नौथी (बंगाल ) में हुआ था उनके पिता का नाम शाहिबुद्दीन मसूद था वह खिलजी वंश के शासक के पहले शासक सुल्तान जलालुद्दीन फिरुज खिलजी के भाई थे अलाउद्दीन खिलजी को बचपन में अच्छी शिक्षा नही मिली थी लेकिन वह शक्तिशाली और महान शासक बनके सामने आये|

इन्हें भी पढ़े- रानी पद्मावती का इतिहास | Rani Padmini History in Hindi

अलाउद्दीन खिलजी का साम्राज्य-

1296 से 1308 के बीच मंगोल लगातार दिल्ली पर कब्जा करने के लिए बार बार अलग अलग शासकों द्वारा हमला करते थे बहुत सारे मंगोल दिल्ली के पास रहने लगे और उन्होंने इस्लाम धर्म को अपनाया इन्हें नए मुस्लमान कहा गया लेकिन खिलजी को उन पर विश्वास नही था खिलजी का मानना था की यह मंगोलियों की एक साजिश है अपने साम्राज्य को बचाने के लिए खिलजी ने 1298 में एक दिन 30 हजार मंगोलियों को मार डाला और उनकी पत्नियों और बच्चे को गुलाम बना दिया

इन्हें भी पढ़े- भारत की सबसे पवित्र नदी गंगा नदी का इतिहास

1299 में खिलजी को सबसे बड़ी जीत गुजरात में मिली इसके बाद आलाउद्दीन खिलजी ने 1303  में रंथाम्बोर किले में पहली बार हमला किया जिसमे उन्हें असफलता मिली इसके बाद खिलजी ने दूसरी बार हमला किया और उनका सामना पृथ्वी राज चौहान के वंशज के राजा राना हमीर देव से हुआ लेकिन राजा राना हमीर देव लड़ते हुए मर गए

1303 में वारंगल में खिलजी ने अपनी सेना भेजी लेकिन काकतीय शासक से उनकी सेना हार गई इसके बाद 1303 में खिलजी ने चित्तोर पर हमला किया उस समय चित्तोर के राजा रावल रतन सिंह थे और उनकी पत्नी का नाम पद्मावती था पद्मावती को पाने की चाह में खिलजी ने चित्तोर में हमला किया लेकिन उनके सफलता नही मिली

1306 में खिलजी ने बड़े राज्य बंग्लाना में हमला किया वहा के राजा का नाम राय कारण था यहाँ खिलजी को सफलता मिली खिलजी राय कारण की बेटी को लेकर दिल्ली आ गया और राय कारण की बेटी का विवाह अपने बड़े बेटे से कर दिया

1308 में खिलजी ने जनरल मालिक कलानुद्दीन ने मेवाड़ के सिवाना किले में हमला किया लेकिन खिलजी की सेना हार गई लेकिन खिलजी ने हार नही मानी और दूसरी बार हमला किया और सफलता मिली

इन्हें भी पढ़े- कलिंजर किले का इतिहास

अलाउद्दीन खिलजी की रोचक बाते – Alauddin Khilji Interesting facts

  • अलाउद्दीन एक शक्तिशाली और महान शासक था उन्हें सिकन्दर ए सनी के नाम से भी जाना जता है
  • खिलजी ने अपने साम्राज्य को काफी हद तक विकसित किया उन्होंने गुजरात, रणथंबोर, मेवाड़, मालवा, जालौर, वरंगल, माबर और मदुराई का निर्माण किया था।
  • अलाउद्दीन खिलजी दिल्ली का सुल्तान था अलाउद्दीन खिलजी खिलजी साम्राज्य के सबसे बड़े शासकों में से एक था
  • अलाउद्दीन खिलजी ने अपने  अंकल और ससुर की हत्या की थी
  • 1316 में अलाउद्दीन खिलजी की मृत्यु हो गयी थी कहा जाता है की मलिक काफूर  ने ही अलाउद्दीन खिलजी की हत्या की थी
  • अलाउद्दीन खिलजी एक मात्र ऐसे शासक थे जिसने अपने साम्राज्य के विस्तार, सुरक्षा के साथ-साथ राजस्व और आर्थिक सुधारों के लिए नीतियां संचालित की
  • अलाउद्दीन खिलजी ने अपने राज्य में शान्ति व्यवस्था बनाए रखने का प्रयास किया साथ ही साहित्य और कला को बढ़ावा दिया और देश विदेश की निति बनाई

अलाउद्दीन खिलजी की मृत्यु (Alauddin Khilji Death)

जनवरी 1316 में 66 साल की आयु में अलाउद्दीन खिलजी की मृत्यु हो गई उनकी कब्र और मदरसे दिल्ली के पास महरौली में क़ुतुब काम्प्लेक्स के पीछे है

 

अंतिम राय

दोस्तों आज हमने आपको अलाउद्दीन खिलजी का इतिहास | Alauddin Khilji History In Hindi , अलाउद्दीन खिलजी की रोचक बाते – Alauddin Khilji Interesting facts , अलाउद्दीन खिलजी का साम्राज्य , अलाउद्दीन खिलजी की मृत्यु (Alauddin Khilji Death) के बारे में अधिक से अधिक जानकरी मिली होगी

आपको यह लेख कैसा लगा नीचे comment कर के जरुर बताइए अगर अभी भी कोई सवाल आप पूछना चाहते हो तो निचे Comment Box में जरुर लिखे | और कोई सुझाव देना चाहते हो तो भी जरुर दीजिये |  अगर अभी तक आपने हमारे Blog को  Subscribe नहीं किया  हैं तो जरुर Subscribe करें | जय हिंद, जय भारत, धन्यवाद

About the author

Jagdish Pant

Leave a Comment

%d bloggers like this: