तकनीक

इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन क्या है और ये कैसे काम करती है .

इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन क्या है और ये कैसे काम करती है
Written by Vinod Pant

आज में आपको इस आर्टिकल के माध्यम से इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन(EVM) क्या है ,और कैसे काम करती है के बारे में अनेक महत्वपूर्ण जानकारी देने का प्रयास करूँगा .

भारत एक लोकतांत्रिक देश है , और इस देश की सरकार यहाँ की जनता के द्वारा चुनी जाती है . स्वतंत्रता मिलने के बाद भारत  में पहला आम चुनाव 25 अक्तूबर से 1951 से 27 मार्च 1952 के बिच हुवा था .  ये समय वह समय था जिस समय वोट बैलेट बाँक्स के माध्यम से डाला जाता था , जिसमें एक विशेष कागज पर अपने उम्मीदवार के चुनाव पर मुहर लगाकर बैलेट बाँक्स में डालना होता था . धीरे -धीरे इस तकनीक में बहुत सी खामिया आती गयी और इन्ही खामियों के कारण भारत सरकार को इस तकनीक को बदलना पड़ा और इन सब बातो को ध्यान में रखते हुए भारत के चुनाव आयोग ने एक ऐसे system की कल्पना की जिससे लोकतंत्र पर कोई खतरा न आये इसी कारण से  इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन(EVM) का निर्माण किया गया .

तो चलिए दोस्तों अब बात करते है EVM क्या है –

इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन(EVM) क्या है(what is EVM in Hindi)

एक समय था जब हमारे भारत देश में पेपर वैलेट का इस्तेमाल किया जाता था . जिसकी गणना करने में ये पता नहीं चल पता था की ये वोटिंग की गणना कब ख़तम होगी और इस गणना को करने में कभी 2 से तीन दिन का वक्त भी लग जाता था . लेकिन अब हमारे देश में EVM का प्रयोग किया जाता है .

EVM इस पर पोलिटिकल पार्टी का चुनाव चिन्ह होता है जिस पर मतदाता बटन दबाकर अपना वोट दे सकता है | EVM electronic ballot box के साथ cable के माध्यम से connected रहती है .

किसी भी EVM में दो यूनिट होते है | पहला  control unit  और दूसरा  balloting unit |  ये दोनों यूनिट आपस में  एक दुसरे से five-meter cable के माध्यम से जुड़े होते है |

भारत में EVM की शुरवात कब हुई थी –

भारत में EVM की शुरुवात 16 विधान सभाओं में सन 1998 में हुयी थी |  इन 16 विधान सभा निर्वाचन-क्षेत्रों में से मध्य प्रदेश की 5, राजस्थान की 5,  दिल्ली की 6 सीट शामिल थीं |

ईवीएम मशीन का इतिहास-

M.B.Haneefa  ने सन 1980 में पहली  Indian Voting Machine का आविष्कार किया   | उस समय इसे “Electronically Operated Vote Counting Machine”, नाम दिया गया |  सन 1989 में 6 बड़े शहरों में Election  Commission of India के द्वारा officially commissioned किया गया |  भारत में सबसे पहले EVM को केरला के  एक by election प्रयोग  किया गया, इसके बाद EVM को experimental basis में  कुछ selected constituencies of Rajasthan, Madhya Pradesh और Delhi में इस्तमाल किया गया |

ईवीएम मशीन की जानकारी-

अब हम आपको EVM के बारे में कुछ महत्वपूर्ण जानकारी देते है –

  • EVM मशीन को चलाना बहुत आसान है, और इसके साथ कोइ छेड़ -छाड़ भी नहीं की जा सकती है |
  • EVM को कुछ इस प्रकार से बनाया गया है की अगर कोइ मतदाता इसमें एक वोट दे देता हो तो वो इसमें दुबारा वोट नहीं दे सकता है |
  • EVM में स्थित micro chip को कुछ इस प्रकार से इस्तेमाल किया गया है की इसमें एक बार program करने के बाद इसे केवल एक ही कार्य में इस्तमाल किया जाता है , न इसमें कोई copy की जा सकती है. इसलिए security के दृष्टी से ये बहुत ही secure होता है |
  •  इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन में अवैध मतों की सम्भावना बहुत कम होती है |
  • EVM मशीने से वोटों की गिनती करने में बहुत आसानी हो जाती है |
  • EVM मशीन को बिना बिजली वाले इलाको में भी प्रयोग किया जाता है , क्योकि ये बैटरी से भी चलती है |
  • एक EVM machine में लगभाग 3840 वोट डाले जा सकते है |

Fax Machine क्या है

मौलिक अधिकार और मौलिक कर्तव्य

ग्राम पंचायत और उसके अधिकार व इससे सम्बंधित महत्वपूर्ण…

ग्रामपंचायत के कार्य

EVM की Design और Technology क्या है ?

किसी भी EVM मशीन  में दो यूनिट होते है , एक  control unit और दूसरा balloting unit इस दोनों यूनिट को  five-meter cable के द्वारा आपस में जोड़ा जाता है . Balloting का प्रयोग मुख्य रूप से वोटिंग देने के लिए labelled buttons के माध्यम से  वोटर के द्वारा किया जाता है | और Control यूनिट का प्रयोग  ballot units  को conntrol करने के लिए किया जाता है .

EVM को charge  एक ordinary 6 volt alkaline battery के द्वारा किया जाता है . EVM को उन जगहों पर भी आसानी से इस्तेमाल किया जा सकता है ,जिन जगहों पर लाईट की सुबिधा नहीं है .

एक EVM में लगभग 3840 वोट ही डाले जा सकते है .  इसमें एक व्यक्ति एक से अधिक वोट नहीं डाल सकता है , जब कोइ वोटर वोट डालने के लिए किसी  particular button को balloting unit में press करता है तो EVM में वोट  particular candidate  के लिए automatically ही record हो जाता है, और फिर मशीन अपने आप  locked हो जाती है .

भारत में मतदान की मशीन का इस्तमाल क्यूँ किया जाता है ?

भारत में 1998 से EVM machine का इस्तेमाल होता आ रहा है . ये मशीन पूरी वोटिंग प्रक्रिया को आसान बना देती है , और इमें एक बटन दबाने से आपका वोट रजिस्टर हो जाता है . EVM machine को करंट के आलावा बैटरी से भी चला सकते है और इससे मशीन से वोटो की गिनती जल्दी और आसानी से हो जाती है | यही कारण है की भारत में EVM machine को इस्तेमाल किया जाता है .

इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन के फायदे –

अब हम आपको EVM वोटिंग machine के क्या फायदे है के बारें में बताते है –

  • EVM मशीन का इस्तेमाल से बहुत सारे पेड़ों को काटे जाने से रोका जा सकता है |
  • EVM को bettery से भी चलाया जा सकता है . इसलिए इसे ऐसी जगहों पर भी इस्तेमाल किया जा सकता है जिन जगहों पर लाइट की सुविधा नहीं है |
  • ये बहुत ही हल्की होती है , इस कारण से इसे आसानी से भी कही भी ले जाया जा सकता है |
  • Ballot Voting  की तुलना में EVM machine से वोटिंग करने में कम खर्च आता है |
  • EVM से वोटों की गिनती करना बहुत आसान होता है
    |
  • जो लोग पड़े – लिखे नहीं है , वो लोग भी इस machine से आसानी से वोट डाल सके है |

ईवीएम मशीन में गड़बड़ी-

BJP के political leader L K Advani ने  सन 2009 में  सबसे पहले EVM मशीन के security features  के उप्पर सवाल उठाये थे | जिसको लेकर Subramanian Swamy ने  एक petition दाखिल Delhi High Court में किया जिसमें उन्होंने  EVMs के current form के इस्तेमाल  को लेकर challange किया था .

अंतिम राय –

आज हमने आपको इस आर्टिकल के माध्यम से इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन(EVM) क्या है के बारें में अनेक जानकारी दी जैसे – इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन(EVM) क्या है(what is EVM in Hindi) , भारत में EVM की शुरवात कब हुई थी , ईवीएम मशीन का इतिहास , ईवीएम मशीन की जानकारी, भारत में मतदान की मशीन का इस्तमाल क्यूँ किया जाता है ?,  इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन के फायदे आदि ,

हम आशा करते है को आज हमने आपको इस आर्टिकल के माध्यम से जो भी जानकारी दी , वो जानकारी आपको पसंद आई होगी | आज आपने इस आर्टिकल के माध्यम से जो भी जानकारी हासिल की उसे आप अपने तक सिमित नहीं रखे , बल्कि उसे दूसरों तक भी पहुंचाए , जिससे दुसरे लोग भी इसके बारें में जान सके .

आपको यह लेख कैसा लगा नीचे comment कर के जरुर बताइए अगर अभी भी कोई सवाल आप पूछना चाहते हो तो निचे Comment Box में जरुर लिखे | और कोई सुझाव देना चाहते हो तो भी जरुर दीजिये |  अगर अभी तक आपने हमारे Blog को  Subscribe नहीं किया  हैं तो जरुर Subscribe करें | जय हिंद, जय भारत, धन्यवाद .

 

About the author

Vinod Pant

Leave a Comment

%d bloggers like this: