तकनीक

डिजिटल सिग्नेचर क्या है (What is digital signature in Hindi)

डिजिटल सिग्नेचर क्या है ( What is digital signature in Hindi )
Written by Vinod Pant

क्या आप जानते है कि डिजिटल सिग्नेचर क्या है (What is digital signature in Hindi)  हम लोगों में  में से कुछ लोग ऐसे भी है जो डिजिटल सिग्नेचर के बारे में जानते है .और कुछ लोग ऐसे भी है जो डिजिटल सिग्नेचर के बारे में नहीं जानते है . अगर आप  लोग डिजिटल सिग्नेचर के बारे में नहीं जानते है तो आज हम आपको डिजिटल सिग्नेचर के बारे में अनेक महत्व पूर्ण जानकारी देंगे .

डिजिटल सिग्नेचर क्या है (What is digital signature in Hindi)

डिजिटल सिग्नेचर को दुसरे शब्दों में Electronic signatur डिजिटल सिग्नेचर एक प्रकार  का कंप्यूटर कोड होता है इसका प्रयोग केवल अधिकृत व्यक्ति ही कर सकता है . कोइ अन्य व्यक्ति इसका प्रयोग नहीं कर सकता है .डिजिटल सिग्नेचर का उपयोग करने के लिए  यूजरid  और pasward की जरुरत होती है . और कही कही पर डोंगल का भी इस्तेमाल किया जाता हैं ये डोंगल एक प्रकार की पेनड्राइव जैसी डिवाइस होती है .डिजिटल सिग्नेचर वही व्यक्ति कर सकता है  पास ये दोनों चीजे है . जैसे कागज के सर्टिफिकेट्स पर मैनुअली साइन किये जाते थे, वैसे ही इलैक्‍ट्रोनिक सर्टिफिकेट्स पर डिजिटल सिग्नेचर किये जाते हैं। और ये क़ानूनी तौर पर मान्य होते है.

digital signechar प्रक्रिया

पहले digital signechar को थोडा सरकारी तरीके से समाज लेते है . हमारे जो पहले सर्टिफिकेट तैयार किये जाते जाते थे वे मैन्युल तरीके से तैयार किये जाते थे .जिस्मे आवेदनकर्ता पहले form भरता था . फिर उसमे जरुरी अटैचमेंट्स लगाता था और फिर उस form को कार्यालय में जमा करता था .फिर उस form जाचकर्ता या जांच अधिकारी चेक करता था .और पूरी जांच होने के बाद वे form कार्यालय में वापस आते थे . उसके बाद सक्षम अधिकारी द्वारा उसमे हस्ताक्षर करके  आवेदनकरता को दिया जाता था .

लकिन अब समय के साथ पूरी प्रक्रिया बदल गयी है . अब ये प्रक्रिया “ई-गवर्नेंस” के माध्यम से बहुत सरल हो गयी है .इस  प्रक्रिया के अंतरगत अब सारे सर्टिफिकेट एक इन्टरनेट पोर्टल के माध्यम  तैयार किये जाते है . अगरआवेदन और तैयार प्रमाण पत्र को छोड दे तो इसमें सारी प्रक्रिया पेपरलेस है . अगर दुसरे शब्दों में बात करे तो ये प्रक्रिया सर्टिफिकेट का डिजिटल रूप होता है . और इसमें सारी प्रक्रिया इन्टरनेट पोर्टल के माध्यम से होती है .

डिजिटल सिग्नेचर क्या है (What is digital signature in Hindi)

Digital Signature कैसे काम करता है?

digital signature हर एक सिग्नेचर के लिए बिल्कुल unikue होता है . बिल्कुल हाथसे किये गए सिग्नेचर की तरह .ये एक विशेष प्रोटोकाल pki पर काम करता है . जिसका मतलब  Public Key Infrastructure है . Digital signature  होता है .प्रोवाइडर इसी का इस्तेमाल करके mathematical algorithm के जरिये दो numbers या दो keys generate करता है।

इनमे एक होता है pablic key और दूसरा होता है priivate key जबकोइ अधिकारी या जाँच करता किसी डॉक्यूमेंट पर डिजिटल सिग्नेचर करता है तो उसके लिए वो private key का इस्तेमाल करता है जो हस्ताक्षरकरता के पास गुप्त रूप से सुरक्षित रखी होती है .

डिजिटल सिग्नेचर के फायदे

  • डिजिटल सिग्नेचर का सबसे बड़ा फायदा यही है की इस्की मदद से किसी भी डक्यूमेंट का authentication  किया जा सकता है .और ये पता चल जाता है की डक्यूमेंटकिसका है सही है या गलत.
  • डिजिटल सिग्नेचर गलत जानकारी को रोकने भी मदद करता है .अगर जैसे कोइ  डॉक्यूमेंट को sign करता है और उसके बाद adit करके उसमे कुछ गलत  करता है .तो ऐसी स्थिति में डिजिटल सिग्नेचर मान्य नहीं होता है . और गलत जानकारी को पहुचने से रोका जा सकता है .
  • अगर कोइ डिजिटल सिग्नेचर एक बार कर लेता है तो उसके बाद ये उसे झुठला नहीं सकता है .क्योकी  डिजिटल सिग्नेचर यूनिक होते है .
  • अगर आप किसी को Digitally documents  भेजते है तो आप उसमे इंक और पेपर का इस्तेमाल कम कर सकते है जिस्से आप खर्च भी कम होगा और वातावरण भी दूषित होने से बाख जाएगा .

अपना  Digital Signature कैसे बनाये

अगर आप अपने  Documents digitally sign करके शेयर करना  चाह्ते है या आप चाहते है  की आपके documents दुसरे लोगों द्वारा authenticate किये जाए या दुसरे शब्दों या सरल शब्दों में  कहे तो क्या आप भी डिजिटल सिग्नेचर प्राप्त करना कहते है तो इसके लिए आप को कुछ बातो का ध्यान रखना पड़ता है .

Digital signature obtain करने के लिए आपको सबसे पहले एक Digital certificate की जरूरत पड़ती है . Certificate Authority के द्वारा provide किये जाते हैं CA( Certificate Authority) एक ऐसा व्यक्ति होता है जिसे Information Technology के एक्ट के तहत Digital certificate ओर signature provide करने के लिए license दिया जाता है .CA digital certificate generate करके उससे digital signature बनाकर आपको provide करता है।

लकिन इसके लिए आपको ca को कुछ फीस देनी पड़ती है . और आप का डिजिटल सिग्नेचर बन्ने में 1 सप्ताह तक का टाइम लग सकता है .

अगर आप डिजिटल सिग्नेचर बनाने के लिए m office का इस्तेमाल करते है और आप एक  Personal Digital signature generate करना चाहते है तो आपको नीचे दिए लिंक पर जाना होगा .

मुन्शी प्रेमचन्द का जीवन परिचय

रामनाथ कोविंद का जीवन परिचय

ए.पी.जे. अब्दुल कलाम की जीवनी

गोलकोंडा किले का इतिहास

Chandrashekhar Azad Biography in Hindi (चंद्रशेखर आज़ाद का जीवन परिचय)

देश का वीर सरबजीत सिंह

कुख्यात वीरप्पन की सच्ची कहानी

क़ुतुब मीनार का इतिहास (Qutub Minar History In Hindi)

Rameshwaram Temple in Hindi

धीरू भाई अम्बानी जीवनी/ dhirubhai Ambani biography in Hindi

Digital Signature के uses

आज के समय में डिजिटल सिग्नेचर का इस्तेमाल सिमित नहीं रह गया है . आज डिजिटल सिग्नेचर का इस्तेमाल अनेक जगहों पर हो रहा है .

  • जरुरी जानकारी या document भेजने में .
  • इनकम tex या इस्से रिलेटेड online form को fill करने में .
  • document को वेरीफाय करने में .
  • कॉन्ट्रैक्ट की E-signing के लिए.

आज हमने आपको डिजिटल सिग्नेचर क्या है (What is digital signature in Hindi) के बारे में अनेक जानकारियाँ दी . जैसे_ डिजिटल सिग्नेचर क्या है , डिजिटल सिग्नेचर कैसे बनता है ,डिजिटल सिग्नेचर कहा यूज कहा  किया जाता है . डिजिटल सिग्नेचर के क्या फायदे है , आप अपना डिजिटल सिग्नेचर कैसे बना सकते है .  आदि.

हम आशा करते है की आज हमने आपको डिजिटल सिग्नेचर क्या है (What is digital signature in Hindi) के बारे में जो भी महत्वपूर्ण जानकारियाँ दी . आपने उनसे बहुत कुछ सीखा होगा .आपने आज डिजिटल सिग्नेचर के बारे जो कुछ भी जानकारियां हासिल की उन जानकारियों को आपने तक सिमित नहीं रखे . बल्कि आप  उन जानकारियों को दुसरो तक भी पहुचाये ,जिस्से दुसरे लोग भी डिजिटल सिग्नेचर के बारे में जान सके .

About the author

Vinod Pant

Leave a Comment

%d bloggers like this: