जीवन परिचय

श्री रामकृष्ण परमहंस की जीवनी

Written by Jagdish Pant

दोस्तों आज हम आपको श्री रामकृष्ण परमहंस की जीवनी  के बारे में महत्वपूर्ण बाते  बताने वाले हैं| रामकृष्ण परमहंस भारत के एक महान संत एवं विचारक  माने जाते हैं आज हम आपको रामकृष्ण परमहंस के जीवन और शिक्षा के बारे में अधिक से अधिक जानकारी देने का प्रयास करेंगे|

श्री रामकृष्ण परमहंस की जीवनी

श्री रामकृष्ण परमहंस का जन्म  जन्म 16 फ़रवरी 1836 में बंगाल में हुआ था|  उनके पॉच भाई थे  तथा उनके बचपन का नाम गदाधर था श्री रामकृष्ण परमहंस   के  पिताजी  का  नाम खुदीराम और माताजी का नाम चन्द्रमणिदेवी था| 

श्री रामकृष्ण परमहंस का परिवार 

श्री रामकृष्ण परमहंस  जब आठ साल के थे जब उनके पिता का देहांत हो गया था इस कारण से  पूरे परिवार का भरण-पोषण नही हो रहा था| लेकिन  इससे श्री रामकृष्ण परमहंस का साहस कम नही हुआ |

उनके बड़े भाई कोलकाता में में एक पाठशाला के संचालक थे| और वह श्री रामकृष्ण परमहंस  को अपने साथ ले गये

श्री रामकृष्ण परमहंस स्कूल जाना प्रारम्भ कर  दिया था| लेकिन उन्हें पढना , लिखना ज्यादा पसंद नही था| उन्हें बचपने से ही कथाओं में रूचि थी

श्री रामकृष्ण परमहंस का जीवन परिचय

श्री रामकृष्ण परमहंस का विवाह

श्री रामकृष्ण परमहंस का विवाह शारदामणि से हुआ था लेकिन श्री रामकृष्ण परमहंस के मन में एक स्त्री के लिए माँ जैसी भावना थी और उनके मन में सांसारिक जीवन के लिए कोई उत्साह नही था|

16 साल की उम्र में श्री रामकृष्ण परमहंस घर छोड़ कर माँ काली की अराघना करने लगे| उनकी भक्ति को देखकर गॉव वाले हैरान हो जाता थे और एक दिन श्री रामकृष्ण परमहंस को माँ काली के दर्शन हुए| और माँ काली ने श्री रामकृष्ण परमहंस को अपने हाथो से भोजन करवाया|

दक्षिणेश्वर मंदिर में श्री रामकृष्ण परमहंस एक पुजारी के रूप में

जब वह 16 साल के थे  तो श्री रामकृष्ण परमहंस के भाई अपना हाथ  बटाने के लिए उनको कोलकाता ले आये तब सन 1855 में राणी रासमणि ने दक्षिणेश्वर में देवी काली का मंदिर  बनाया था  तो श्री रामकृष्ण परमहंस के भाई उस मंदिर के मुख्य पुजारी थे| उनकी मृत्यु  के बाद श्री रामकृष्ण परमहंस को उस मंदिर का पुजारी बना दिया गया।

श्री रामकृष्ण परमहंस द्वारा दी गयी शिक्षा – Sri Ramakrishna Paramahamsa Education

श्री रामकृष्ण परमहंस के अपने व्यक्तिगत जीवन में कोई किताब नहीं लिखी और नाही कोई प्रवचन  दिए| श्री रामकृष्ण परमहंस अपने जीवन में जिंदगी को उदहारण लेकर बहुत ही सरल भाषा में लोगो को समझाते थे और लोग अपने आप ही आकर्षित हो जाते थे

इसलिए सन 1942 में ‘द गोस्पेल ऑफ़ श्री रामकृष्ण’ नाम की इंग्लिश में किताब  प्रकाशित की गयी। यह किताब आज भी सभी को उतनी ही आकर्षित करती हैं।

श्री रामकृष्ण परमहंस के भक्त – Devotees of Sri Ramkrishna Paramahansash

शिघ्र ही श्री रामकृष्ण परमहंस के भक्तों का आगमन होने लगे| और भक्तों को दो वर्ग में विभाजित कर दिया गया| प्रथम भक्तो को यह सिखाते थे की परिवार की जिम्मेदारी सँभालने के साथ साथ किस तरह से भगवान की अनुभूति की जा सकती है।

दुसरे भक्तो के वर्ग में युवा को भिक्षुक बनाने की पूरी शिक्षा देते थे और उनके माध्यम से अपना सन्देश समाज के हर कोने में पहुचाना चाहते थे।

कबीर दास का जीवन परिचय

बसरा मंदिर का इतिहास

रहीम का जीवन परिचय (Biography of Rahim )

मुन्शी प्रेमचन्द का जीवन परिचय

मीराबाई का जीवन परिचय

सूरदास का जीवन परिचय

कालिदास का जीवन परिचय

रामनाथ कोविंद का जीवन परिचय

ए.पी.जे. अब्दुल कलाम की जीवनी

Chandrashekhar Azad Biography in Hindi (चंद्रशेखर आज़ाद का जीवन परिचय)

देश का वीर सरबजीत सिंह

 

श्री रामकृष्ण परम हंस के अनमोल वचन

  • श्री रामकृष्ण परमहंस कहते हैं की जैसे ख़राब आईने में प्रकाश की किरण नही पड़ती वैसे ही ख़राब मन में भगवान की मूर्ति नही बनती
  • सभी के घर्म समान हैं | यह ईश्वर प्राप्ति का रास्ता हैं
  • श्री रामकृष्ण परमहंस कहते हैं  अगर रास्ते में को रुकावट ना आये तो समझ लेने की की राह गलत हैं

श्री रामकृष्ण परमहंस के और भी अनमोल वचन हैं जो मनुष्य को नही राह दिखता हैं

श्री रामकृष्ण परमहंस की मृत्यु – Death of Shri Ramkrishna Paramahansa

सन 1885 में श्री रामकृष्ण परमहंस को गले का कैंसर हो गया था फिर उन्हें कलकता में अच्छे डॉक्टर से उपचार कराने लाया गया | लेकिन जैसे जैसे समय गुजरने   लगा वैसे वैसे श्री रामकृष्ण परमहंस की हालत खराब होने लोगी और फिर 16 अगस्त 1886 में उनकी मृत्यु हो गयी।

लेकिन उनकी मृत्यु के बाद भी उनकी लोकप्रियता में कोई कमी नही आई

 

अंतिम राय 

दोस्तों आज हमने आपको श्री रामकृष्ण परमहंस की जीवनी, श्री रामकृष्ण परमहंस का परिवार, श्री रामकृष्ण परमहंस का विवाह, दक्षिणेश्वर मंदिर में श्री रामकृष्ण परमहंस एक पुजारी के रूप में, श्री रामकृष्ण परमहंस द्वारा दी गयी शिक्षा, श्री रामकृष्ण परमहंस के भक्त, श्री रामकृष्ण परमहंस की मृत्यु,  के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी देने का प्रयास किया हैं

आपको यह लेख कैसा लगा  निचे comment कर के जरुर  बताइए अगर अभी भी  कोई सवाल आप पूछना चाहते हो तो निचे Comment Box में जरुर लिखे| और कोई सुझाव देना चाहते हो तो भी जरुर दीजिये| हमारे Blog को अभी तक अगर आप Subscribe नहीं किये हैं तो जरुर Subscribe करें| जय हिंद, जय भारत, धन्यवाद|

About the author

Jagdish Pant

Leave a Comment

%d bloggers like this: