जीवन परिचय

Boxer Muhammad Ali Biography in Hindi बॉक्सर मुहम्मद अली की जीवनी

Boxer Muhammad Ali Biography in Hindi बॉक्सर मुहम्मद अली की जीवनी
Written by Jagdish Pant

Boxer Muhammad Ali Biography in Hindi बॉक्सर मुहम्मद अली की जीवनी

महान बॉक्सर  मुहम्मद अली का जन्म  17 जनवरी 1942 को  केतुंडी प्रान्त के लौइस्विले नामक स्थान में हुआ था मुहम्मद अली का बचपन में नाम मार्सीलस क्ले जूनियर था  मुहम्मद अली का लालन पोषण दक्षिणी हिस्से में हुआ था  बचपन से ही उन्हें मुक्केबाजी पसन्द थी
12 साल की उम्र में उनके साथ एक घटना घटी जिस वजह से वह मुक्केबाज बन गए एक बार उनकी साइकिल चोरी हो गई थी उन्होंने पुलिस अधिकारी  मार्टिन को बताया कि वह चोर को एक घूंसा मारना चाहता है मार्टिन ने कहा की ” किसी से भी लड़ने से पहले तुम्हे अच्छी लड़ना सीखना होगा” मार्टिन पुलिस अधिकारी होने के साथ साथ स्थायी जिम में लड़को को मुक्केबाजी सिखाता था इसके बाद मुहम्मद अली ने भी मुक्केबाजी सीखी
Boxer Muhammad Ali Biography in Hindi बॉक्सर मुहम्मद अली की जीवनी
मुहम्मद अली ने 1954 में पहली स्पर्धा जीती थी इसके बाद वह 1956 में इट हैवीवेट श्रेणी की स्पर्धा गोल्डन ग्लोबस टूर्नामेंट में भाग लिया और उस टूर्नामेंट में जीत भी हासिल की | तीन साल बाद वह नेशनल गोल्डन ग्लोब्स ऑफ़ चैंपियन जीत गये इसके साथ ही उन्होंने एमेचोयेर एथेलेटिक एसोसिएशन का नेशनल टाइटल भी जीता
सन 1960 में मुहम्मद अली अमेरिकी ओलम्पिक मुक्केबाजी टीम में शामिल किया गया ओलम्पिक में भाग लेने के लिए वह रोम चले गए छह फीट तीन इन इंच लम्बे अली जब मुकाबले के लिए रिंग में उतरते थे तो उनके प्रतिद्वंदी डर जाते थे
पोलैंड के मुक्केबाज बिग्नी पिटजोक्ब्स्की को परास्त कर उन्होंने स्वर्ण पदक हासिल किया इसी के साथ वह अमेरिका के प्रसिद्ध नायक बन गए सन 1964 में उन्होंने  सोनी लिस्टन को हराकर World Heavy Weight Champion का किताब हासिल किया
मुहम्मद अली निदी ज़िंदगी मे आध्यात्मिक शान्ति की तलाश कर रहे थे इसलिए उन्होने सन 1964  मे इस्तलाम धर्म   स्वीकार कर लिया था  सन 1967 में अली ने अपनी धार्मिक मान्यताओ की सुरक्षा करने के लिए अपने करियर को  न्योछावर करने का लिया|  और न्याय मंत्रालय ने उन पर मुकदमा किया और  सैन्य सेवा को स्वीकार नही करने की वजह से मुहम्मद अली को दोषी करार दिया गया
अदालती लड़ाई लड़कर उन्होने स्वय को निर्दोष साबित किया इसके बाद उनका प्रदर्शन पहले जैसा नही रहा  और Boxing Association ने उनका किताब हासिल कर लिया और उन्हें  साढ़े तीन वर्ष का प्रतिबंध लग गया इसके बाद वह सन  1970 में रिंग में उतरकर  उन्होने एटलांटा में जेरी क्वारी को मुकाबले में पराजित किया|
इसके बाद उन्होने सन 1974 में फ़्रन्ज़िएर को पराजित का दिया| इसके बाद उन्होने दूसरी बार सन 1974 में World Heavy Weight Champion का ख़िताब हासिल किया |
1970 के दशक में उनका करियर ढलान की तरफ था| सन 1978 में लियोन स्पिन्क्स ने पराजित किया और इसके बाद  1980 में लैरी होल्म्स ने पराजित किया| सन 1981 में अली आखिरी स्पर्धा में शामिल हुए   ट्रेवर बार्बिक ने उन्हें पराजित कर  World Heavy Weight Champion का ख़िताब मुहम्मद अली से छीन लिया और अगले दिन मुहम्मद अली ने सन्यास लिया
सन्यास लेने के बाद वह समाज सेवा में जुड़ गए| 1984 में वो पार्किसन रोग से ग्रसित हो गये  मुहम्मद  अली ने विकलांगो के लिए आयोजित होने वाले ओलम्पिक और मेक ए विश फाउंडेशन को  वित्तीय सहयता देने का ऐलान किया 1998  में सयुंक्त राष्ट्र संघ  उन्हे अपना शांति दूत बनाया
सन 2005 में अमेरिका के तत्कालीन राष्ट्रपति जोर्ज W Bush ने अली को स्वतंत्रता का राष्ट्रपति पदक प्रदान किया |  मुहम्मद अली  ने कहा की “मै साधारण आदमी  हूँ और अपने भीतर की प्रतिभा का प्रयोग करके और कठोर मेहनत करता रहा हूँ  और मुझे खुद पर और दूसरे की  अच्छाईयों पर हमेशा भरोसा  है |
इन्हे भी पढ़े- 
पंडित दीनदयाल उपाध्याय की जीवनी | Pandit Deendayal Upadhyay Biography in Hindi

अंतिम राय

आज हमने आपको Boxer Muhammad Ali Biography in Hindi बॉक्सर मुहम्मद अली की जीवनी के बारे  में अधिक से अधिक जानकारी देने का प्रयास किया है
आपको यह लेख कैसा लगा नीचे comment कर के जरुर बताइए अगर अभी भी कोई सवाल आप पूछना चाहते हो तो निचे Comment Box में जरुर लिखे | और कोई सुझाव देना चाहते हो तो भी जरुर दीजिये |  अगर अभी तक आपने हमारे Blog को  Subscribe नहीं किया  हैं तो जरुर Subscribe करें | जय हिंद, जय भारत, धन्यवाद |

About the author

Jagdish Pant

Leave a Comment

%d bloggers like this: