तकनीक

Computer क्या है what is computer in hindi – हिन्दी में जानकारी

Computer क्या है what is computer in hindi - हिन्दी में जानकारी
Written by manoj pant

Computer क्या है – कंप्यूटर का आविष्कार जटिल गणनाओं को हल करने के लिए किया गया था कंप्यूटर ऐक ऐसी electronic device है जिसे information के साथ काम करने के लिए डिजाइन किया  गया है. कंप्यूटर शब्द Latin भाषा के Compute से लिया गया है जिसका अर्थ है calculation करना. इसके काम की बात करे तो ये तीन प्रकार से काम करता है.

इसका पहला काम Input को लेना है जिसे हम डटा भी कहते है. इसका दूसरा काम data को प्रोसेसिंग करना है. वही इसके तीसरे काम की बात करे तो इसका तीसरा काम processed डाटा को दिखाने का होता है जिसे हम output भी कहते हैं

कम्प्युटर का आविष्कारक Charles Babbage को माना जाता है. Charles Babbage ने ही पहले कंप्यूटर का आविष्कार किया था. जिसे एनालिटिकल इंजिन के नाम से भी जाना जाता था. इसमें punch card के माध्यम से Data को insert किया जाता था.

Table of Contents

full form of computer

C= Common
O= Oriented
M= Machine
P= Particularly
U= United and used under
T= Technical and
E= Educational
R= Research

(Common Operating Machine Particularly used for Technological Engineering Research)

कंप्यूटर क्या है (Computer in Hindi) और कंप्यूटर के प्रकार- 

आज हम जो कंप्यूटर यूज कर रहे है इसके पीछे अनेक वैज्ञानिकों के सालों की मेहनत का नतीजा है  . आज में आपको इस आर्टिकल के माध्यम से कम्पूटर क्या है , इसके मुख्य पार्ट क्या -क्या है और ये कैसे काम करते है  इसके अलावा आज मैं आपको कंप्यूटर के अबारें में अनेक महत्वपूर्ण जानकारियाँ देने का प्रयास करूँगा .

कंप्यूटर के प्रकार और उनका विवरण संपूर्ण जानकारी (TYPES OF COMPUTER IN HINDI)

कम्पूटर एक ऐसी इलेक्ट्रोनिक  device है जो बहुत से कार्यों को एक साथ कर सकती है . कुछ कम्पूटर इतने शक्तिशाली भी होते है जिनको हजारों  users एक ही समय में उपयोग कर सकते हैं . इन कम्पूटर के प्रकार विभिन्न क्षमताओं और  आकारों के हैं . कम्पूटर का वर्गीकरण उसके आकार ,अनुप्रयोग,गति के आधार पर किया गया है .

अनुप्रयोग के आधार पर computer के प्रकार (ACCORDING TO APPLICATION)

एनालॉग कम्प्यूटर : एनालॉग कम्प्यूटर  का प्रयोग हम ऐसी जगहों पर करते है जहां पर हमें अनेक भौतिक मात्राओं जैसे – तापमान, दाब, गति, वोल्टेज, प्रतिरोध का मापन करना हो  . इनका उपयोग हम  अनुसंधान और इंजीनियरिंग के क्षेत्र में  भी कर सकते है . इन computer का प्रयोग गणना  के क्षेत्र में नहीं किया जा सकता है

डिजिटल कम्प्यूटर :  डिजिटल कंप्यूटर वे computer है जिनका उपयोग सभी कार्यों को डिजिटल रूप से करने के लिए किया जाता है .  यह बाइनरी नंबर system का इस्तेमाल करता है . बायनरी संख्या 0 और 1  होती  हैं इसका प्रयोग निम्न क्षेत्रों में किया जाता है जैसे शिक्षा, बैंकिंग, व्यापार, मनोरंजन इत्यादि

हाईब्रिड कम्प्यूटर :  वह computer जिनमें हाइब्रिड और डिजिटल दोनों   कार्य किये जा सकते  हैं हाइब्रिड computer  कहलाते है

उद्देश्य के आधार पर (ACCORDING TO PURPOSE) 

माइक्रो कंप्यूटर (Micro Computer) :  माइक्रो computer को पर्सनल computer भी कहते है  वह एक  डिजिटल कंप्यूटर जिस पर एक माइक्रोप्रोसेसर लगा होता है|  यह computer सिंगल यूजर के हिसाब से डिज़ाइन किया गया है|

मिनी कंप्यूटर (Mini Computer) :  मिनी computer एक मीडियम size का computer है इसमें आप एक समय में कई प्रग्राम एक साथ चला सकते है  इन computer को मिनी size के server के रूप में भी जाना  जाता है मिनी computer माइक्रो कंप्यूटरों और मेनफ्रेम के बीच की श्रेणी  है| यह processing में काफी तेज होते हैं

मेनफ़्रेम कंप्यूटर (Mainframe Computer)  मेनफ़्रेम computer आकर में काफी बड़े होते है ये एक कमरे के बराबर जगह घेरते है . इन computer का प्रयोग बड़े -बड़े काम्पियों में किया जाता है . आज के समय में मेनफ़्रेम computer का आकार काफी घट गया है और इनके processor में भी वृद्धि हुयी है . इन computer का प्रयोग सर्वर के रूप में काफी प्रयोग किया जा रहा है . आईबीएम सिस्टम z10 मेनफ्रेम कंप्यूटर का एक उदाहरण है।

सुपर कंप्यूटर – सुपर computer आकार में बहुत बड़े होते है . इनका processing क्षमता भी काफी ज्यादा होती है . इनका प्रयोग उन क्षेत्रों में किया जाता  है जिन क्षेत्रों में काफी जटिल गणनाए होती है . जैसे – मौसम विज्ञान की जानकारी,उपग्रह,अंतरिक्ष यात्रा,सैन्य और वैज्ञानिक अनुसंधान मे इन computer में एक साथ कई सी.पी.यू जुड़े रहते हैं . भारत का पहेला सुपर कंप्यूटर परम 8000 है, जीशे 1 जुलाई, 1991 में उन्नत कंप्यूटिंग के विकास के लिए बनाया गया.

आकर के आधार पर कंप्यूटर के प्रकार (Types of Computer in Hindi)

computer को आकार के आधार पर निम्न भागों में बांटा गया है

Desktop 

डिस्प्ले स्क्रीन का क्षेत्र जहां images, windows, icons और अन्य ग्राफिकल आइटम दिखाई देते हैं।  डेस्कटॉप का उपयोग डेस्क या टेबल पर रखकर किया जा सकता है और इसे एक स्थान से दुसरे स्थान तक ले जाना लेपटोप और पोर्टेबल डिवाइस की तरह आसान नही होता है  

Laptop

लैपटॉप  एक पोर्टेबल पर्सनल कंप्यूटर है जो बैटरी द्वारा संचालित होता है लैपटॉप में एक पतली डिस्प्ले स्क्रीन भी होती है जो laptop के keyboard से जुडी होती है और ट्रांसपोर्टर के समय इस  फ्लैट डिस्पले स्क्रीन को फोल्ड किया जा सकता है 

Tablet

टेबलेट एक पोर्टेबल कंप्यूटर है|  जो टचस्क्रीन को अपने प्राथमिक इनपुट डिवाइस के रूप में करता है। अधिकतर टेबलेट छोटे और औसत लैपटॉप से ​​कम वजन के होते है 

 

Servers 

सर्वर्स एक computerजैसा है और यह अन्य computer को डाटा प्रदान करता है  यह इंटरनेट पर स्थानीय क्षेत्र नेटवर्क (लैन) या विस्तृत क्षेत्र नेटवर्क (डब्ल्यूएएन) पर सिस्टम के लिए डेटा की सेवा करता है और  वेब सर्वर, मेल सर्वर, और फ़ाइल सर्वर सहित कई प्रकार के सर्वर मौजूद हैं।

 

 कंप्यूटर की परिभाषा (definition of computer )

वह  इलेक्ट्रॉनिक उपकरण जो विशेष रूप से डाटा को प्राप्त करने में सक्षम हो और सूचना या सिग्नल के रूप में परिणाम देने के लिए प्रक्रियात्मक (Procedural) निर्देशों (प्रोग्राम) के पूर्व निर्धारित लेकिन परिवर्तनीय सेट के अनुसार संचालन का अनुक्रम करने में सक्षम हो 

 

2 कंप्यूटर का इतिहास

इस बात का कोइ प्रमाण नहीं है की  computer का development कब से प्रारम्भ हुवा था . लेकिन computer  के  officially  development को generation के मुताबिक classify कर दिया गया है. इसे पाँच भागो में बाटा गया है .

First Generation (1940-1956) Vacuum Tubes

ये computer first generation के थे ये computer सन 1940 से 1956 के बीच में काफी प्रचलित थे . इन computer में सी .पी.यू (central processing unite)  के लिए मेमोरी और सर्किट्री के मूल घटकों के रूप में वैक्यूम ट्यूबों का उपयोग किया जाता था . बल्बों के तरह इन ट्यूबों में भी बहुत गर्मी पैदा होती थी  इसी कारण उस समय ये बहुत महंगे थे और बड़े बड़े संगठनों द्वारा इनका प्रयोग किया जाता था . इन कंप्यूटर का आकार भी बहुत बड़ा होता था और इन्हें चलाने के लिए  बहुत ज्यादा शक्ति की आवश्यकता होती थी . इनमे Machine Language का इस्तमाल होता था. उदहारण के तोर पर UNIVAC and ENIAC computers.

Second Generation (1956-1963) Transistors

ये computer second generation के हैं . इन computer में वैक्यूम ट्यूबों की जगह पर ट्रांजिस्टर लगे हुए थे जिनके कारण कंप्यूटर का आकार  छोटा, तेज, सस्ता, अधिक ऊर्जा कुशल और अधिक विश्वसनीय था परन्तु अभी भी ये काफी गर्मी पैदा करता था . लेकिन ये वैक्यूम ट्यूब पर एक बड़ा सुधार था इनमे High Level programming Language जैसे COBOL और FORTRAN को इस्तमाल में लाया गया था.
                

Third Generation (1964-1971) Integrated Circuits

ये computer थर्ड generation के थे . इनमें integrated circuits का प्रयोग किया गया था . transistors को छोटी सिल्कोन प्लेट में रखा जाता था जो एक semi conductor का कार्य करता था . जो कंप्यूटर की गति और दक्षता में काफी वृद्धि करता था। इसमें प्रिंटआउट के बजाय कीबोर्ड और मॉनिटर का प्रयोग करना प्रारम्भ कर दिया था .
इसे users फ्रेंडली बनाने के लिए इसमें Operating System  का प्रयोग किया गया था

                     

Fourth Generation (1971-Present) Microprocessors

ये computer फोर्थ generation के थे , इनमें Microprocessor का इस्तमाल किया गया जिससे हजारों Integrated Circuit को एक ही सिलिकॉन chip में embedded किया गया.  इन Microprocessor के  इस्तमाल से कंप्यूटर की efficiency और भी बढ़ गयी थी . ये बहुत ही काम समय  में बड़े बड़े कैलकुलेशन कर सकते थे .

Fifth Generation (Present and Beyond) Artificial Intelligence

फिफ्थ generation के computer आज के generation  के है . आज कल  Artificial Intelligence का प्रयोग ज्यादा हो रहा है . अब नयी नयी Technology जैसे Speech recognition, Parallel Processing, Quantum Calculation जैसे कई इस्तमाल में आने लगे हैं. Artificial Intelligence के कारण सारे काम   Automated  होने लगे हैं .

Picture

कंप्यूटर का जनक

computer के जनक की बात करें तो इसे खोजने वाले कई लोग है | इस बारे में हम इस लेख के निचे बात करेंगे तथा इस विस्तार से समझायेंगे|

Wikipedia के अनुसार चार्ल्स बैबेज को कंप्यूटिंग का जनक माना जाता  है 

सन 1833 से 1871 के बीच में  ब्रिटिश गणितज्ञ और वैज्ञानिक चार्ल्स बैबेज ने जैकार्ड पंच-कार्ड प्रणाली का प्रयोग करते हुए ‘एनालिटिकल इंजन’ का निर्माण किया था  इसे वर्तमान कम्प्यूटरों का अग्रदूत माना जा सकता है।

सन 1936 से 1938 के बीच में कोनराड ज़्यूज़ ने अपने माता-पिता के रहने वाले कमरे में Z1 बनाया था|  30000 धातु के भागों को मिलाकर  उसने Z1 बनाया था | यह पहला इलेक्ट्रो-मैकेनिकल बाइनरी प्रोग्राम करने योग्य computer माना गया| 

सन 1939 में जर्मन सेना ने ज़्यूज़ Z2 बनाने के लिए कमिशन  दिया | Z2 काफी हद तक Z1 पर ही आधारित था| इसके बाद सन 1941 में  Z3 का निर्माण  किया| Z3 अपने समय का सबसे पड़ा क्रांतिकारी कंप्यूटर था| और यह पहले इलेक्ट्रोमेकनिकल और प्रोग्राम-नियंत्रित  computer माना जाता है  

19 दिसम्बर 1974 को अल्टेयर 8800 को रिलीज किया गया| और नरी एडवर्ड रॉबर्ट्स ने “पर्सनल कंप्यूटर” नाम बनाया आज उसे आधुनिक पर्सनल कंप्यूटर के पिता के रूप में जाना जाता है 

Image result for components of computer in hindi 

Components of computer in Hindi

जैसे की हमने आपको ऊपर अपने इस लेख में बनाया है की computer तीन प्रकार के होते है

एनालॉग कंप्यूटर (Analog Computer) 

 डिज़िटल कम्प्यूटर (Digital Computer) 

3.  हाइब्रिड कम्प्यूटर (Hybrid Computer)

इन तीनों computer में आज अधिकतर  डिजिटल कंप्‍यूटर का प्रयोग ज्यादा  होता है   अब हम बात करें Components of computer in Hindi कौन  से है

  1. सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट (CPU)
  2. विजुअल डिस्प्ले यूनिट (VDU), कीबोर्ड और माउस
  3. अन्य इनपुट एवं आउटपुट डिवाइसेज
  4. कंप्यूटर मेमोरी
  5. हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर का कांन्सेप्ट

सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट (CPU) – 

सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट (Central Processing Unit) कंप्‍यूटर की संरचना (Computer Architecture)  के केंद्र में होता है| और input device  द्वारा डाटा और निर्देशों को कंप्‍यूटर में एंटर किया जाता है| इसके बाद  सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट (Central Processing Unit) डाटा को प्रोसेस करता है और हमको output device द्वारा आउटपुट देता है

2- विजुअल डिस्प्ले यूनिट (VDU), कीबोर्ड और माउस –

विजुअल डिस्प्ले के अन्दर निम्न चीजे आती  हैं

मॉनिटर ( Monitor )

Monitor एक output device है आप Monitor को Visual Display Unit भी कह सकते है  monitor दिखने में एक टी.वी की तरह होता है लेकिन यह computer के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण और जरूरी है इसके बिना computer में कोई भी कार्य करना असम्भव हैcomputer में चल रहे कार्यो को मॉनिटर ही दिखाता है

माउस ( Mouse )

Mouse एक input Device है जो कंप्यूटर में किसी भी file को Select और detect करने के काम में आता  है|  Mouse  का use आप command देने के लिए भी कर सकते है

कीबोर्ड ( Keyboard )

keyboard भी एक Input Device है जो कंप्यूटर में Text लिखने के लिए प्रमुख रूप से प्रयोग की जाती है keyboard की मदद  से हम Email , MSG type कर सकते हैं आप अभी जो आर्टीकल पढ़ रहे हैं  यह Artica भी key board की मदद से ही लिख गया है|

3- इनपुट एवं आउटपुट डिवाइसेज

OUT का अर्थ होता है बहार और PUT का अर्थ होता है रखना तो इसका मतलब होता हैं बहार रखना जैसे की Monitor, Speaker, Printer, Projector, Plotter.

Input Device computers के कुछ ऐसे हिस्से होते है जिनकी मदद से हम computer को command देने का काम कर सकते हैं |

इनपुट डिवाइस (Input Device)

 4-कंप्‍यूटर मैमोरी ( Computer Memory )

  • कंप्‍यूटर मैमोरी ( Computer Memory )
    • प्राइमरी मेमोरी ( Primary Memory )
    • सेकेंडरी मेमोरी ( Secondary Memory )
    • रजिस्टर मेमोरी ( Register Memory )
    • कैश मेमोरी ( Cache Memory )

5- हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर का कांन्सेप्ट

  • सॉफ्टवेयर ( Software )

  • सॉफ्टवेयर के प्रकार – (Types of Computer Software)
  • सिस्टम सॉफ्टवेयर क्या है   (What is system software)
  • हार्डवेयर ( Hardware)

  • कंप्यूटर की हार्डवेयर संरचना (Computer hardware structure)
  • कंप्यूटर की कार्य प्रणाली (Computer functions)
  • सीपीयू के अन्‍दरूनी भाग (Parts of CPU and their Functions)
  • बायोस ( Bios )
  • कंप्यूटर बूटिंग ( Computer Booting )
  • प्रोग्रामिंग भाषा क्‍या है (What is programming Language)
  • प्रोग्रामिंग भाषा के प्रकार (Types Of Programming Language)
  • उच्च स्तरीय प्रोग्रामिंग भाषा (High Level Programming Language)
  • मशीनी भाषा ( Machine Language )
  • असेम्बली भाषा ( Assembly Language )
  • असेम्बलर ( Assembler )
  • कम्पाइलर ( Compiler )
  • इंटरप्रेटर ( Interpreter )
  • कम्पाइलर और इंटरप्रेटर में अंतर ( Difference Between Interpreter and Compiler )
  • प्रोग्रामिंग भाषा अनुवादक ( Programming Language Translator )
  • लिंकर और लोडर ( linker and loader )
  • बाइनरी नंबर सिस्टम (Binary Number System)
  • फ्लोचार्ट ( Flowchart )
  • एल्गोरिदम ( Algorithm)
  • नेमोनिक कोड ( Mnemonic code )

 

अंतिम राय

दोस्तों आज हमने आपको Computer क्या है what is computer in hindi – हिन्दी में जानकारी , कंप्यूटर क्या है (Computer in Hindi) और कंप्यूटर के प्रकार , TYPES OF COMPUTER IN HINDI , कंप्यूटर की परिभाषा (definition of computer ),  के बारे में अधिक से अधिक जानकारी देने का प्रयास किया है

आपको यह लेख कैसा लगा  निचे comment कर के जरुर  बताइए अगर अभी भी  कोई सवाल आप पूछना चाहते हो तो निचे Comment Box में जरुर लिखे| और कोई सुझाव देना चाहते हो तो भी जरुर दीजिये| हमारे Blog को अभी तक अगर आप Subscribe नहीं किये हैं तो जरुर Subscribe करें| जय हिंद, जय भारत, धन्यवाद|

 

 

 

About the author

manoj pant

Leave a Comment

%d bloggers like this: