तकनीक

स्पीड पोस्ट क्या है और कैसे करे? What is speed post in hindi

speed post (what is speed post in hindi )
Written by Vinod Pant

स्पीड पोस्ट क्या है ? और कैसे करे

ये पोस्टल सर्विस की एक  सबसे तेज सेवा है . ये एक ऐसी सुविधा जिससे कोइ भी व्यक्ति भारत के किसी भी कोने से किसी भी कौने तक अपना सामान बड़ी ही आसानी से और बहुत ही कम समय में तथा सुरक्षित ढंग से पंहुचा सकता है  वो भी बहुत  कम पैसे देकर.

स्पीड पोस्ट की शुरुवात भारत में सन 1986ं हुयी थी . और तब से लेकर अब तक 30 सालो में Indian  postal service ने अपनी services में काफी हद तक सुधार लाया है . इससे पहले जब भारत में 1986 में स्पीड पोस्ट की शुरुवात हुयी थी ., उस समय Indian पोस्ट अपनी स्पीड के लिये बदनाम था . क्योकि उस समय अधिक सुविधा न होने के करण Indian स्पीड पोस्ट की  स्पीड बहुत धीमी थी.

लकिन कहते है ना की समय के साथ _साथ सब कुछ बदल जाता है . और भारतीय स्पीड पोस्ट के साथ भी यही हुवा.

भारत सरकार ने स्पीड पोस्ट की धीमी शुरुवात को देखकर कुछ प्रसंसनीय कदन उठाये. और भारतीय postal सर्विस की पूरी तरह से digitalis कर दिया. और इसका परिणाम आज हमको देखने को मिल रहा है . आज के समर में market में ऐसी बहुत सी डाकसेवा है जो कम समय में और उचित मूल्य पर हमें  बेहतर सेवा प्रदान कर रही है.

स्पीड पोस्ट में नए यूग का प्रारम्भ तब हुवा जब कश्मीर से लेकर कन्या कुमारी तक सिर्फ 25रु० में, एक भारत, एक दर योजना ” शुरू की गयी . अगर भारत में स्पीड पोस्ट की बात करे तो स्पीड पोस्ट भारत के  1200 से अधिक शहरो को जोडती है . जिनमे से  290 Speed Post केन्द्र् राष्ट्रीय नेटवर्क और करीब 1000 Speed Post केन्द्रत राज्य नेटवर्क में हैं।

स्पीड पोस्ट क्या है ? और कैसे करे

 

स्पीड पोस्ट कैसे करे

आप में से बहुत से लोग ऐसे है जिन्हें स्पीड पोस्ट के जरिये  सामान भेजना आता है और कुछ लोग ऐसे है जिन्हें स्पीड पोस्ट के जरिये सामान भेजना नहीं आता तो आज आपको बताते है की स्पीड पोस्ट के जरिये सामान कैसे भेजते है .

  • सबसे पहले आप जो सामान भेजना है उसे तैयार कर ले . उसके बाद उसे एक standard size envelope में डाल दें .पर इसमें ये ध्यान देने के बात ये है की आप जो भी standard size envelope का इस्तेमाल करे वो सरकार के द्वारा निर्धारित की गयी साइज की ही हो .
  • आप envelope Indian Post stationary से ही खरीदे. जिस्से आपको to और form address लिखने में कोइ दिक्कत न हो अगर आप कही बहार  से envelope Indian Post stationary खरीदते है तो आपको to और form address लिखने में दिक्कत आ सकती है .
  • आपको address के साथ फोन नंबर देने की भी जरुरत है , जिस्से की कोइ confusion न हो
  • इसके बाद आपको अपने  envelope के ऊपर speed पोस्ट लिखना होता है. ये बहुत ही जरूरी होता है .
  • इसके बाद आपको पोस्ट ऑफिस जाकर  बुकिंग स्टाप को ये envelope देना पड़ेगा. और इसके बाद बुकिंग स्टाप इसका weight मापेगा और उसी हिसाब से स्पीड पोस्ट का चार्ज  लगाएगा.उसके बाद वो आपको एक receipt  देगा. जहां की पोस्ट का  consignment number लिखा होगा .
  • इस consignment number को आप बड़े सभाल के रखें ,क्योकी इसकी  मदद से आप अपनी पोस्ट की status जान सकंगे और आपने जो भी सामान स्पीड पोस्ट की जरिये भेजा है अगर उसमे कोइ दिक्कत होती है तो consignment number  को दिखाकर अपने प्रोब्लम  को solve कर सकते है .

Speed पोस्ट  के स्थानी दर

आज हम आपको स्थानी पोस्ट के दरो के बारे में बता रहे है . इसका मतलब है आप जो भी सामान स्पीड पोस्ट के माध्यम से भेज रहे है . उसके  weight के हिसाब  से आपको उसका कितना मूल्य देना पड़ सकता है.

 

भार स्थाएनीय 200 कि.मी. तक 201 से 1000 कि. मी. तक 1001 से 2000 कि. मी. तक 2000 कि. मी. से अधिक
50 ग्राम रु. 12* रु. 25* रु. 25* रु. 25* रु. 25*
51 से 200 ग्राम रु. 20 रु. 25 रु. 30 रु. 50 रु. 60
201 से 500 ग्राम रु. 20 रु. 40 रु. 45 रु. 70 रु. 80
अतिरिक्‍त 500 ग्राम अथवा उसका अंश रु.5 रु. 7.50 रु. 15 रु. 30 रु. 40​

​ये दरे 11 जून 2007 से संसोधित की गयी है.

Laptop Me Playstore Kaise Download Kare

Computer Virus क्या होता है वायरस के कितने प्रकार है

Malware क्या है Malware हमारे computer में आते कहाँ से हैं? – What is Malware in Hindi

Speed Post को  SMS जरिये कैसे track करे

अगर आप official पेज को track नहीं कर पा रहे है तो आप sms के जरिये भी track कर सकते है .

सबसे पहले आप अपने मोबाइल के sms बॉक्स में जायें और वहां  टाइप करे post track और उसके बाद tracking नंबर इंटर करे  और इसे 166 या 51969 पर भेंज दे . यहाँ ख़ास बात ये है की इसमें आपको sms का चार्ज sms प्लान के तहत ही देना होगा.

Speed post की शिकायत कहाँ करे.

अगर आपको अपने speed post के transaction में कोइ दिक्कत है तो आप इसकी  शिकायत अपने नजदीकी पोस्ट ऑफिस में कर सकते है. लकिन आप एक बात का ध्यान रखे जब आप अपने नजदीकी पोस्ट ऑफिस जाएँ तो अपने साथ अपना transaction का Consignment Number भी जरुर ले जायें.

अगर आप अंतर्राष्ट्रीपय speed post से सम्बंधित कोइ शिकायत करना चाहते है तो आप कृपया गेटवे केन्द्र दिल्ली, मुंबई, कोलकाता तथा चेन्नई से संपर्क करे.

शहर दूरभाष सं. दूरभाष सं. प्रबंधक ई-मेल आईडी
दिल्ली 1800 119888 98680 21828 spc.delhi@indiapost.gov.in
मुम्बई 022 2615 6125 022 2615 6093 spc.mumbai@indiapost.gov.in
चेन्नई 044 2231 3282 94446 30016 spc.chennai@indiapost.gov.in
कोलकाता 033 2212 0476 033 2212 1160 spc.kolkata@indiapost.gov.in

स्पीड पोस्ट ट्रैकिंग नंबर को कैसे ट्रैक करें

हम आपको बता दे की भारतीय डाक सेवा में पहले से काफी अंतर है | आज हमारा देश पोस्ट में आधुनिक उपकरणों का प्रयोग कर अपनी सेवा देश विदेश तक पंहुचा रही है आज इंडियन पोस्ट में आप रजिस्टर्ड पोस्ट , स्पीड पोस्ट , और पार्सल जैसी फ़ास्ट सेवाओं का उपयोग कर सकते है .

अगर इंडियन पोस्ट की बात करें तो आज इंडियन पोस्ट ने हर गाँव -गाँव में अपनी पहुच बना ली है और 15,0000 से ज्यादा भारतीय पोस्ट ने अपने office भी खोल लिए है . आज इस बदलते समय के साथ आप घर बैठे भरतीय डाक के किसी भी  सेवा का लाभ उठा सकते है . आप घर बैठे अपने mobile या कंप्यूटर से ऑनलाइन स्पीड पोस्ट ट्रैकिंग या  पार्सल को भी ट्रैक कर सकते है .

अगर आप भी स्पीड पोस्ट ट्रैकिंग करना चाहते है या आप भारतीय डाक स्पीड पोस्ट लोकेशन प्राप्त करना चाहते है , स्पीड पोस्ट inquiry करना , स्पीड पोस्ट चेक करना ,स्पीड पोस्ट पता करना , स्पीड पोस्ट के लोकेशन ,भारतीय डाक स्पीड पोस्ट ट्रैकिंग आदि करना चाहते है तो  आप हमारे इस आर्टिकल को पूरा पढ़ें तथा आर्टिकल के अंत में दिए गये लिंक में click करें

  • सबसे पहले आप Indian post के official page को खोले.उसी पेज में आपको दायी ओर  एक बॉक्स दिखायी  देगा . जिसमे आपको  Tracking Id/Consignment Number का tab दिखाई देगा. इसमें  आपको दोनों  बॉक्स  को भरना होगा.
  • इसके बाद आपको नीचे एक कैप्चा दिखाई देगा . जिसको आप को भरना होता है .
  • इसके बाद आपको go tab का press करना है .

इसके बाद एक नया पेज खुल जाएगा जिसमे आपको  अपने  Speed Post, Registered Post या Courier से जुडी सभी जानकारियाँ मिल जायेंगी.

Registered post vs speed post में अंतर

Speed post vs Registered post में यह अंतर है की

  •  स्पीड पोस्ट में  दिए हुए पते पर उपस्थित किसी भी व्यक्ति को पोस्ट दी जा सकती है जबकि पंजीकृत डाक वितरण के मामले में खुद को या अपने मेल प्राप्त करने के उद्देश्य से उनके द्वारा अधिकृत किसी भी व्यक्ति को जोड़ा जाना जरुरी  है .  यदि registered  डाक किसी अन्य व्यक्ति को एड्रेससी के रजिस्टर्ड  के बिना वितरित किया जाता है, तो सेन्डर डाकघर के खिलाफ शिकायत दर्ज कर सकता है.
  • स्पीड पोस्ट रजिस्टर्ड पोस्ट की तुलना में तेजी से पहुचायी  जाती है .
  • रजिस्टर्ड पोस्ट का रिकॉर्ड स्पीड पोस्ट की तुलना लम्बे समय तक संभाल के रखा जाता है .
  • कुछ आर्टिकल के लिए रजिस्ट्रेसन अनिवार्य है जैसे – चेक, बैंक नोट्स, स्टैम्प लेबल्स, एक्सचेंज बिल आदि.
  • पहले स्पीड पोस्ट पर ही ट्रैकिंग की सुविधा उपलब्ध थी लेकिन अब रजिस्टर्ड पोस्ट  पर भी यह सुविधा उपलब्ध है .

Note-: एड्रेससी – हमरे द्वारा इस आर्टिकल में प्रयोग किये गये एड्रेससी शब्द का मतलब है जिसको आप पत्र भेज रहे   हैं .

लिफाफे में सहि तरीके से address कैसे लिखें

  • लिफाफे के फ्रंट साइड पर एड्रेससी का address  (पता ) लिखा जाता है और बैक साइड पर सेन्डर का पता लिखा जाता है
  • अगर कोइ कम्पनी  आपको पत्र भेज रही है  तो उसका लोगो (logo) या नाम  सबसे ऊपर बाएं किनारे (टॉप लेफ्ट) पर लिखती है .
  • एड्रेस ब्लाक तथा  एड्रेससी के बीच में  कम से कम 4 cm का अंतर होना चाहिए .
  • टिकट या फ्रेंक इम्प्रैशन 7 cm के अन्तराल में चिपकाने चाहिए .
  • यदि विज्ञापन निजी रूप से निर्मित लिफाफा या अंतर्देशीय पत्र कार्ड पर मुद्रित किया जाता है तो पता ब्लॉक के सभी किनारों पर न्यूनतम 10 मिमी का एक शांत क्षेत्र बनाए रखा जाना चाहिए.

Envelope

 स्पीड पोस्ट track करें 

अंतिम राय

आज हमने आपको speed post  के बारे में अनेक महत्वपूर्ण जानकारियाँ दी जैसे की speed post क्या  है ,इसे कैसे use करते है speed post कैसे करते है, अगर  आपके speed post में कोइ दिक्कत है तो आप official  पेज द्वारा या sms द्वारा स्पीड पोस्ट को कैसे track कर सकते है. आदि .

हमें आशा है की हमने आपको आज speed पोस्ट के बारे में जो भी जानकारियाँ दी उससे आपने बहुत कुछ महत्वपूर्ण बाते सीखी हुंगी . आपने आज speed post के बारे में जो भी जानकारीयाँ हासिल की आप उन जानकारियों को अपने तक ही सिमित न रखकर दुसरे लोगो तक भी इस जानकारी को पहुचायें.

 

 

About the author

Vinod Pant

1 Comment

Leave a Comment

%d bloggers like this: